गोरखपुर        महराजगंज        देवरिया        कुशीनगर        बस्ती        सिद्धार्थनगर        संतकबीरनगर       
देश

काबुल के सैन्य अस्पताल में दोहरा धमाका, 19 की मौत, 43 घायल

हादसा
मिलिट्री हॉस्पिटल में धमाके के बाद कई लोग भागकर चिल्ड्रेन हॉस्पिटल पहुंचे
अस्पताल में धमाके के बाद आसपास के इलाके में धुंआ फैल गया।

काबुल, ( एजेंसी)। काबुल के सबसे बड़े सैन्य अस्पताल में गोलीबारी के बाद हुए दोहरे धमाके में 19 लोगों की मौत हो गई और 50 लोग घायल हो गए।
आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता कारी सईद खोस्ती ने बताया कि सरदार मोहम्मद दाउद खान अस्पताल के प्रवेश द्वार पर धमाके हुए। इलाके में सुरक्षाबलों को तैनात कर दिया गया है।

इलाके के निवासियों की ओर से साझा की गई तस्वीरों में दिखाया गया है कि धमाके के स्थान से ऊंचे धुएं का गुबार निकल रहा है।

फिलहाल किसी भी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है लेकिन आधिकारिक बख्तार न्यूज एजेंसी ने प्रत्यक्षदर्शियों का हवाला देते हुए कहा है कि इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों ने अस्पताल में प्रवेश किया था और सुरक्षाबलों के साथ इनकी मुठभेड़ हो गई थी।

उल्लेखनीय है कि इस्लामिक स्टेट आतंकवादी संगठन ने अगस्त से देश पर कब्जा करने के बाद मस्जिदों पर कई हमले किए हैं। इन हमलों में कई निर्दोष लोग मारे गए हैं।

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में मंगलवार को मिलिट्री हॉस्पिटल के पास 2 जोरदार धमाके हुए। इसमें 19 लोगों की मौत हो गई और 43 घायल हैं। घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने बताया कि काबुल में सरदार मोहम्मद दाऊद खान मिलिट्री हॉस्पिटल के पास गोलियों की आवाज भी सुनी गई। यह अफगानिस्तान का सबसे बड़ा मिलिट्री हॉस्पिटल है।
इस्लामिक अमीरात के डिप्टी प्रवक्ता बिलाल करीमी ने बताया कि काबुल के 10वें जिले में 400 बिस्तरों वाले हॉस्पिटल के एंट्री गेट पर दो ब्लास्ट हुए। उन्होंने कहा कि घटनास्थल पर सुरक्षाबलों को भेज दिया गया है। अल जजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक, धमाका कार में हुआ।

किसी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली
इन धमाकों की जिम्मेदारी अभी तक किसी आतंकी संगठन ने नहीं ली है। मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसा बताया जा रहा है कि आईएसआईएल से जुड़े कई हथियारबंद लोग अस्पताल में घुस गए, जिसके बाद सुरक्षाकर्मियों से उनकी भिड़ंत हुई।
कुंदुज में जुमे की नमाज के दौरान धमाके में 100 मारे गए
कुछ दिनों पहले ही अफगानिस्तान के कुंदुज में जुमे की नमाज के दौरान जोरदार धमाका हुआ था। इसमें 100 लोगों की मौत हो गई और कई घायल हुए थे। यह धमाका हजारा शिया मस्जिद को निशाना बनाकर किया गया। कुंदुज में संस्कृति और सूचना के निदेशक मतिउल्लाह रोहानी ने बताया कि यह आत्मघाती हमला था। अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनने के बाद यह देश में सबसे बड़ा हमला था।

 

 

 

Related Articles

Back to top button
Close