गोरखपुर        महराजगंज        देवरिया        कुशीनगर        बस्ती        सिद्धार्थनगर        संतकबीरनगर       
टॉप न्यूज़

महंगाई और सेब ने बिगाड़ा भाजपा का खेल, बगावत पड़ी भारी

सिलेंडर, पेट्रोल, डीजल और सरसों के तेल की कीमतें बढ़ने से आम जनता ने सरकार के खिलाफ निकाला गुस्सा

महंगाई स्ट्रोक :
मंडी लोकसभा सीट के अलावा अर्की,
फतेहपुर और जुब्बल कोटखाई
सीटों पर भाजपा को करारी मात

शिमला, (एजेंसी)। हिमाचल प्रदेश की चार सीटों पर हुए उपचुनाव के परिणाम ने भाजपा को तगड़ा झटका दिया है। अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले इस परिणाम के जरिए जनता ने भाजपा को निराश किया है। मंडी लोकसभा सीट के अलावा अर्की, फतेहपुर और जुब्बल कोटखाई विधानसभा सीटों पर भाजपा को करारी मात मिली है। सेब बाहुल जुब्बल कोटखाई में तो भाजपा उम्मीदवार की जमानत जब्त हो गई।

उपचुनाव के परिणाम पर महंगाई के असर और सेब के दाम बढ़ने के मुददों को भी बड़ी वजह माना जा रहा है। यह भी कहा जा रहा है कि सिलेंडर, पेट्रोल, डीजल और सरसों के तेल की कीमतें बढ़ने से आम जनता में सरकार के खिलाफ भारी नाराजगी थी। सेब सीजन के आरंभ में बागवानों को सेब की सही कीमतें नहीं मिलने पर बागवानों में भी सरकार के विरुद्ध रोष था। शिमला जिला के जुब्बल कोटखाई और रामपुर के अलावा मंडी जिलों के पहाड़ी क्षेत्रों, कुल्लू और किन्नौर में सेब का मुद्दा प्रमुखता से छाया रहा तथा सताधारी भाजपा के खिलाफ बागवान लामबंद हुए। यही वजह रही कि सेब की उपज वाले अधिकतर विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा को लीड नहीं मिल पाई।

मंडी संसदीय क्षेत्र की जनता के रुझान से स्पष्ट है कि भाजपा को जमीनी राजनीति पर जोर देना होगा। मंडी सीट मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बनी हुई थी। मुख्यमंत्री ने अपने चुनाव प्रचार का ज्यादातर समय इसी संसदीय क्षेत्र में बिताया और ताबड़तोड़ रैलियां की। मुख्यमंत्री का गृह जिला होने के कारण इस सीट पर भाजपा उम्मीदवार की जीत सुनिश्चित मानी जा रही थी, लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह भाजपा पर भारी पड़ीं और उन्होंने यह सीट कांग्रेस की झोली में डाल दी। भाजपा ने समूचे संगठन की ताकत मंडी उपचुनाव में झोंक दी थी, लेकिन पार्टी इस सीट पर अपना कब्जा बरकरार नहीं रख पाई।
कुल मिलाकर मंडी उपचुनाव परिणाम को भाजपा के लिए तगड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है। दरअसल पिछले दो आम चुनाव में भाजपा के रामस्वरूप शर्मा ने इस सीट पर शानदार जीत दर्ज की थी। उनकी मृत्यु के वजह से इस सीट पर उपचुनाव हुआ। कांग्रेस की प्रतिभा सिंह आठ हजार से अधिक वोटों से जीत हासिल की है। वर्ष 2019 के आम चुनाव में कांग्रेस इस सीट को चार लाख से अधिक मतों से हार गई थी।
सूबे में उपचुनाव वाली चारों सीटों पर भाजपा की रणनीति कारगर नहीं दिखी। ज्यादातर सीटों पर उम्मीदवार चयन पर विवाद हुआ और टिकट आवंटन के बाद स्थानीय भाजपा नेताओं में भारी असंतोष पनपा। जुब्बल कोटखाई सीट इसका स्पष्ट उदाहरण है, जहां भाजपा पहले दिवंगत विधायक नरेंद्र बरागटा के बेटे चेतन बरागटा को अपना उम्मीदवार कहकर घुमाती रही और बाद में टिकट जिला परिषद सदस्य रहीं नीलम सरैइक को थमा दिया गया। अर्की और फतेहपुर विधानसभा सीट पर भी भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद बगावत के सुर उठे।

Related Articles

Back to top button
Close