गोरखपुर        महराजगंज        देवरिया        कुशीनगर        बस्ती        सिद्धार्थनगर        संतकबीरनगर       
उत्तर प्रदेशकृषि/विज्ञान/टेक्नोलॉजीगुड मॉर्निंग न्यूज़गोरखपुरटॉप न्यूज़देशनई दिल्लीपॉजिटिव न्यूजब्रेकिंग न्यूज़महाराष्ट्रमुम्बईराज्यवॉयस ऑफ शताब्दी

गोरखपुर : 10 हजार घरों में पाइप लाइन से पहुंचेगी रसोई गैस

घरेलू उपभोक्ताओं को कनेक्शन 7090 रूपये में मिलेगा

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अगले सप्ताह गोरखपुर के 10 हजार घरों को पाइप लाइन गैस की सौगात दे सकते हैं। यह न सिर्फ पर्यावरण के अनुकूल, परिवार के लिए सुरक्षित है बल्कि यह नई ऊर्जा टोरेंट पाइप नेचुरल गैस की सुविधा की सौगात होगी। सिर्फ 29.90 रुपये प्रति घन मीटर की दर पर मिलने वाली इस गैस की पहुंच उपभोक्ताओं की रसोई तक होने वाली है। गैस प्रदाता कंपनी की तैयारियां तेज हैं।

घरेलू उपभोक्ताओं को कनेक्शन 7090 रूपये में मिलेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लोकार्पण की तैयारियों की गवाही खानीमपुर और सेक्टर 05 गीडा के आवासीय क्षेत्रों में इसका ट्रायल के रूप में देखा जा सकता है। दोनों जगहों पर 46 घरों में पाइप लाइन से गैस पहुंचाई जा रही है। 106 घरों में मीटर लग चुका है। यहां भी कनेक्शन देने का काम जोरों पर है। पहले चरण में तारा मंडल के तकरीबन 10 हजार घरों तक पाइप लाइन से गैस पहुंचाने की योजना है।

पाइप लाइन से जुड़ेगा पराग डेयरी

टोरेंट कंपनी ने घरों के साथ वाणिज्यिक संस्थानों में भी पाइप लाइन से गैस आपूर्ति की तैयारी की है। खजनी रोड स्थित पराग डेयरी को गुरुवार से पाइप लाइन से गैस आपूर्ति शुरू हो गई। यहां मीटर भी लगाया जा चुका है।

मासिक किस्तों पर कनेक्शन

पीएनजी कनेक्शन के लिए कंपनी ने 7090 रुपये का शुल्क तय किया है। 7090 रूपये के शुल्क में 6000 हजार रुपया सिक्योरिटी के रूप में जमा होगा। यह सुरक्षा राशि 557 रुपये की 12 किस्तो में दी जा सकती है। कनेक्शन सरेंडर करने पर रह रकम वापस कर दी जाएगी। इसके अलावा ब्याज रहित रिफंडेबल गैस आपूर्ति सुरक्षा राशि 500 रुपये जमा कराई जाएगी। 18 फीसदी जीएसटी के साथ 590 रुपये का आवेदन शुल्क शामिल है।

हर दो माह पर चुकाना होगा बिल

पीएनजी कनेक्शन के लिए चूल्हा नहीं बदलना होगा सिर्फ नॉब ही बदला जाएगा। कनेक्शन देते समय कंपनी के कर्मचारी चूल्हे के नॉब में बदलाव कर देंगे। पीएनजी ग्राहकों को हर दो महीने पर बिल चुकाना होगा।

45 फीसद की बचत होगी

वन्यजीव एवं पर्यावरण के क्षेत्र में कार्यरत प्रतिष्ठित संस्था हेरिटेज फाउंडेशन के ट्रस्टी अनिल कुमार तिवारी कहते हैं कि एलपीजी की तुलना में पीएनजी से खाना बनाना सस्ता पड़ेगा। तकरीबन 40-45 फीसद की बचत होगी। पांच सदस्यों वाले परिवार में हर महीने लगभग 18-25 यूनिट गैस खर्च होगी। यानी 600 से 750 रुपये मासिक खर्च आएगा। जबकि एलपीजी सिलेंडर इन दिनों 947 रुपये है।

Related Articles

Back to top button
Close